12+ Sarnath Me Ghumne Ki Jagah : खर्चा और सम्पूर्ण जानकारी

अगर आप बौद्ध एवं जैन धर्म के बारे में रूचि रखते है तो आप सारनाथ में घूमने जा सकते हैं।  सारनाथ उत्तर प्रदेश के पूर्वोत्तर भाग में स्थित वाराणसी से 10 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है जहा हर साल लाखो में टूरिस्ट घूमने आते हैं।

सारनाथ बौद्ध धर्म के तीर्थ स्थलों की वजह से काफी प्रसिद्ध है। वैसे तो Sarnath Me Ghumne Ki Jagah बहुत सारी है लेकिन कुछ बेहतरीन जगहों के नाम निचे दिए गए हैं।

Table of Contents

सारनाथ का इतिहास ( History Of Sarnath )

सारनाथ का प्राचीन नाम ऋषिपतन (इसिपतन या मृगदाव) (हिरनों का जंगल) था। लेकिन अब इसे सारनाथ के नाम से जाना जाता हैं। ‘सारनाथ’ की उत्पत्ति ‘सारंगनाथ’ (मृगों के नाथ) अर्थात् भगवान गौतम बुद्ध से हुई हैं

सारनाथ में हिरण पार्क है जहां ज्ञान प्राप्ति के बाद गौतम बुद्ध ने अपना पहला उपदेश दिया था इस उपदेश को लोग “धर्म चक्र प्रवर्तन” के नाम से जानते हैं। सारनाथ में बने सारे स्तूप, मंदिर और मठ बोद्ध एवं जैन धर्म से संबंध रखते हैं।

सारनाथ में लोकप्रिय पर्यटक स्थल ( Sarnath Tourist Places in Hindi )

आज हम आपको सारनाथ के कुछ ऐसे पर्यटक स्थलों के बारे में बताने वाले हैं जिसे पढ़ के आपका मन जरूर कहेगा की एक बार सारनाथ जरूर जाना चाहिए और इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप जरूर सारनाथ आयेंगे और अच्छे से घूम के जायेंगे।

1. बुद्ध प्रतिमा, सारनाथ (Statue Of Buddha Sarnath)

बुद्ध प्रतिमा (Statue Of Buddha Sarnath)
बुद्ध प्रतिमा (Statue Of Buddha Sarnath)

सारनाथ के मुख्य आकर्षणों में से एक बुद्ध जी की एक विशाल प्रतिमा है जो की 80 फीट ऊंची है। यह भारत में भगवान बुद्ध जी की सबसे ऊंची खड़ी प्रतिमा है। इस मूर्ति के निर्माण का विचार 1970 में भारत और थाईलैंड के बौद्ध भिक्षु के द्वारा किया गया था।

इस मूर्ति को बनाने में लगभग 14 सालो का समय लगा था। इस बुद्धा जी की प्रतिमा का नीव सन्न 1997 में रखा गया था और यह 2011 में बन के पूरा हुआ था।गौतम बुद्ध जी की यह खड़ी प्रतिमा सारनाथ में थाई बुद्ध विहार के परिसर में स्थित है ।

बलुआ पत्थर से बनी 80 फीट ऊंची बुद्ध जी की प्रतिमा भारत और थाईलैंड के संयुक्त प्रयासों का परिणाम है। यह पे शांति हमेसा बनी रहती है जिससे यह एक बहुत ही दिव्य अनुभव जैसा महसूस होता है। वहां प्रवेश के लिए कोई शुल्क नहीं है और सूर्योदय से सूर्यास्त तक का समय निर्धारित है।

~ प्रवेश शुल्क :- कोई प्रवेश शुल्क नहीं (Free)   ~ समय :- 9AM to 5PM    ~ यात्रा अवधि :- 20 मिनट

2. चौखंडी स्तूप, सारनाथ (Chaukhandi Stupa, Sarnath )

चौखंडी स्तूप (Chaukhandi Stupa Sarnath)
चौखंडी स्तूप (Chaukhandi Stupa Sarnath)

चौखंडी स्तूप सारनाथ में एक और बहुत प्रसिद्ध और ऐतिहासिक रूप से एक महत्वपूर्ण स्मारक है। सारनाथ में प्रवेश करते ही चौखंडी स्तूप पहला स्मारक है। जो स्तूप मूल रूप से सम्राट अशोक द्वारा बनवाया गया था। यह स्तूप सारनाथ में एक महत्वपूर्ण बौद्ध स्तूप है।

चौखंडी स्तूप को गुप्त काल के दौरान बनाया गया था। जो चौथे और छठी शताब्दी के बीच उस स्थान को चिह्नित करने के लिए बनाया गया था जहां गौतम बुद्ध और उनके पहले शिष्य जो बोधगया से सारनाथ की यात्रा करते थे। यह स्तूप एक विशाल मिट्टी का टीला है जो ईंट से बना हुआ एक अष्टकोणीय भवन है और यह बौद्ध भक्तों के लिए एक महत्वपूर्ण स्थल है।

~ प्रवेश शुल्क :- 5/- rupee    ~ समय :- 9AM to 5PM      ~ यात्रा अवधि :- 30 मिनट 

3. धमेक स्तूप, सारनाथ  (Dhamekh Stupa, Sarnath )

धमेक स्तूप (Dhamekh Stupa Sarnath)
धमेक स्तूप (Dhamekh Stupa Sarnath)

धमेक स्तूप महान सम्राट अशोक के काल मे बनना सुरु हुआ था तथा गुप्त काल में इसका निर्माण पूरा हुआ था । यह सारनाथ की सबसे आकर्षक संरचनाओं में से एक है  यह एक बेलनाकार स्तूप है जो की  43.6 मीटर ऊँचा है। ऐसा कहा जाता है कि इस स्तूप की ऊंचाई को अलग अलग समय पर छह बार बढ़ाया गया है लेकिन फिर भी इसका ऊपर का हिस्सा अधूरा रह गया है।

धमेख स्तूप को बनवाने में ईंट और पत्थरों का बहुत ही बड़ी मात्रा में उपयोग  किया गया है। धमेक  स्तूप के निचले हिस्से में शानदार फूल एवं पत्तियों की नक्काशी की गई है जो की देखने में बहुत ही आकर्षक लगता है और Sarnath Me Ghumne Ki Jagah में से ये एक बहुत ही अच्छा जगह है ।

~ प्रवेश शुल्क :- 25/- rupee    ~ समय :- 10AM to 5PM    ~ यात्रा अवधि :- 20 मिनट

4. डियर पार्क सारनाथ  (Deer Park, Sarnath )

डियर पार्क  (Deer Park Sarnath)
डियर पार्क  (Deer Park Sarnath)

सारनाथ का यह डियर पार्क बहुत ही लोकप्रिय है और यह सारनाथ में घूमने की जगह में से एक सबसे मनोरंजक जगह है। यहाँ पर पर्यटन की दृष्टि से बहुत सारे जानवर और पक्षिया रखे गया है। एक ही स्थान पर इतने सारे पशु पक्षियों को देखना लोगो को बहुत अच्छा लगता है। अगर आप सारनाथ आ रहे है तो यहाँ पे एक बार जरूर जाइएगा।

यह डियर पार्क सारनाथ में एक ऐसा स्थान है जहां पे आपको शांति और सुकून का अनुभव होगा। यहाँ  पे आपको अनेक प्रकार के जानवर एक स्थान पर अलग अलग पिंजरों में देखने को मिल जायेंगे।

~ प्रवेश शुल्क :- 25/- rupee    ~ समय :- 10AM to 5PM    ~ यात्रा अवधि :- 2 घंटा

5. जापानी मंदिर, सारनाथ (Japanese Temple, Sarnath )

जापानी मंदिर (Japanese Temple Sarnath)
जापानी मंदिर (Japanese Temple Sarnath)

सारनाथ में उपस्थित इस जापानी मंदिर में विशेष रूप से जापानी सौंदर्य को प्रस्तुत किया गया है, इसमें एक दो मंजिला शिवालय है जिसकी छत पर ढलान है जो इसके खूबशूरती को और भी निखरता है। यह मंदिर इंडो-जापान बौद्ध सांस्कृतिक सोसायटी द्वारा चलाया जाता है।

मंदिर के अंदर घुसते ही आपको शांति  का आभास होगा। मंदिर का आंतरिक भाग अत्यंत सुंदर और मन मोह लेने वाला है। यहां लेटे हुए मुद्रा में गौतम बुद्ध की एक लकड़ी की मूर्ति है जिसके सिर पर एक उत्कृष्ट डिजाइन है जो देखने में काफी अच्छा लगता है

~ प्रवेश शुल्क :- कोई प्रवेश शुल्क नहीं (Free)   ~ समय :- 10AM to 5PM  ~ यात्रा अवधि :- 15 मिनट

6. बौद्ध मंदिर, सारनाथ (Buddhist Temple, Sarnath )

बौद्ध मंदिर (Buddhist Temple Sarnath)
बौद्ध मंदिर (Buddhist Temple Sarnath)

ये बौद्ध मंदिर भी सारनाथ के मुख्य आकर्षणों में से एक है। इस बौद्ध मंदिर का निर्माण सारनाथ में महाबोधि सोसायटी द्वारा कराया गया था। इस मंदिर के अंदर महात्मा बुद्ध जी की एक विशाल प्रतिमा है और ये मंदिर बोद्ध एवं जैन धर्म से संबंध रखते हैं। यहां पे हर साल लाखो में पर्यटक पहुंचते है।

नोट :- आपको जितने भी सारनाथ में घूमने की जगह के बारे में बताया जा रहा है वो सभी के सभी जगह 1 किलोमीटर के अन्दर ही स्थित है। तो आपको परेशान होने की कोई जरुरत नहीं है आप इस ट्रिप को आसानी से एन्जॉय कर सकते है।

~ प्रवेश शुल्क :- कोई प्रवेश शुल्क नहीं (Free)   ~ समय :- 10AM to 5PM  ~ यात्रा अवधि :- 10 मिनट

7. सारनाथ का पुरातत्व संग्रहालय, सारनाथ (Archaeological Museum Sarnath)

सारनाथ का पुरातत्व संग्रहालय (Archaeological Museum Sarnath)
सारनाथ का पुरातत्व संग्रहालय (Archaeological Museum Sarnath)

अगर आपको ऐतिहासिक चीजों का शौक है तो यह संग्रहालय आप को बहुत पसंद आएगा । इस संग्रहालय की स्थापना सारनाथ में सन्न 1910 में हुई थी । सारनाथ के पुरातत्व संग्रहालय का निर्माण सारनाथ में हुई खुदाई के दौरान मिले पुरावशेषों को संरक्षित और प्रदर्शित करने के लिए किया गया था।

इस संग्रहालय के बनाने का विचार उस समय के तत्कालीन महानिदेशक “सर जॉन मार्शल” द्वारा किया गया था। संग्रहालय की नक्काशी का कार्य “श्री जेम्स रैनसम” को दिया गया था, जो की भारत सरकार के तत्कालीन परामर्शदाता वास्तुकार थे।सारनाथ में बहुत सारी महत्वपूर्ण कलाकृतियाँ पाई गई हैं जो की तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व से 12वीं शताब्दी ईस्वी तक उपयोग की गई सामग्रियों और तकनीकों को प्रदर्शित करती हैं।

संग्रहालय में सबसे उल्लेखनीय गुप्त काल की बुद्ध उपदेश और अशोक की सिंह राजधानी की छवि है। कुछ अन्य वस्तुएँ जैसे 12वीं शताब्दी तक के पक्षियों, जानवरों, नर और मादाओं के सिर की आकृतियाँ आदि है। 

~ प्रवेश शुल्क :- 25/- rupee   ~ समय :- 10AM to 5PM  ~ यात्रा अवधि :- 1.5 घंटा

8. अर्चेओलोगिकल बुद्धिस्ट रेमैंस (Archaeological Buddhist Remains of Sarnath)

अर्चेओलोगिकल बुद्धिस्ट रेमैंस (Archaeological Buddhist Remains of Sarnath)
अर्चेओलोगिकल बुद्धिस्ट रेमैंस (Archaeological Buddhist Remains of Sarnath)

यह विशाल खंडहर धमेक स्तूप के ही परिसर में स्थित हैं। अर्चेओलोगिकल बुद्धिस्ट रेमैंस सारनाथ में एक उत्खनन स्थल है। ये पुरातत्व संग्रहालय के ठीक बगल में स्थित है। यह भारत में लोकप्रिय पुरातात्विक स्थलों में से एक है, और सारनाथ के पर्यटक स्थलों में से एक महत्वपूर्ण स्थल है। वर्त्तमान में इन स्थलों का रखरखाव भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा किया जाता है।

ट्रेवल टिप्स :- मात्र एक ही प्रवेश टिकट से आप इन तीनो सारनाथ में घूमने की जगहों पे :- “पुरातत्व खंडहर परिसर” , “धमेक स्तूप” और “पुरातत्व संग्रहालय” में घूम सकते है। एक बार टिकट लेने के पश्चात आप इन तीनो जगहों पे जा सकते है ।  

~ प्रवेश शुल्क :- 25/- rupee   ~ समय :- 9AM to 5PM  ~ यात्रा अवधि :- 1 घंटा

9. वट थाई सारनाथ मंदिर ( Wat Thai Sarnath Temple )

वट थाई सारनाथ मंदिर ( Wat Thai Sarnath Temple )
वट थाई सारनाथ मंदिर ( Wat Thai Sarnath Temple )

वट थाई मंदिर के नाम से प्रशिद्ध इस बौद्ध मंदिर का निर्माण 1933 में थाई व्यक्तियों के द्वारा किया गया था। इस मंदिर के ठीक सामने हंसते हुए बुद्ध ( लाफिंग बुद्धा ) की एक मूर्ति है जो की आपका मन मोह लेगी और ये मंदिर एक बहुत ही बड़े हरे भरे मैदान में स्थित है। इस मंदिर के पास पहुंचने से पहले खिले हुए कमल के फूलों के साथ फव्वारे चल रहा होते हैं।

इस थाई मंदिर के परिसर में बहुत सरे विभिन्न रंगों के और विभिन्न प्रकार के फूल उगे हुए हैं। थाई मंदिर में हमेसा शांति बनी रहती है जिससे यह पे बहुत ही अच्छा महसूस होता है। यहां प्रवेश के लिए कोई शुल्क नहीं है और सूर्योदय से सूर्यास्त तक का समय निर्धारित है और आप अगर Sarnath Me Ghumne Ki jagah के बारे में उत्शुक है तो आप यह भी जा सकते है

~ प्रवेश शुल्क :- कोई प्रवेश शुल्क नहीं (Free)   ~ समय :- 9AM to 5PM  ~ यात्रा अवधि :- 15 मिनट

10. मूलगंध कुटी विहार ( गौतम बुद्ध प्रथम उपदेश स्थल सारनाथ )

मूलगंध कुटी विहार ( गौतम बुद्ध प्रथम उपदेश स्थल सारनाथ )
मूलगंध कुटी विहार ( गौतम बुद्ध प्रथम उपदेश स्थल सारनाथ )

सारनाथ में यह मूलगंध कुटी विहार काफी लोकप्रिय है क्युकी ज्ञान प्राप्ति के बाद पहली बार गौतम बुद्ध ने मूलगंध कुटी विहार के इसी स्थान पे अपना प्रथम उपदेश दिया था और यहीं से उन्होंने धर्मचक्र-प्रर्वतन प्रारम्भ किया था ।

इसी के बाये ओर एक विशाल घंटा भी है जो की साम को बजाय जाता है और इसका आवाज आप 2 से 3 किलोमीटर दूर से ही सुन सकते है। जो की आपने आप में ही एक अजुना है ।

~ प्रवेश शुल्क :- कोई प्रवेश शुल्क नहीं (Free)   ~ समय :- 9AM to 5PM    ~ यात्रा अवधि :- 20 मिनट

11. तिब्बती मंदिर सारनाथ ( Tibetan Temple Sarnath )

तिब्बती मंदिर सारनाथ ( Tibetan Temple Sarnath )
तिब्बती मंदिर सारनाथ ( Tibetan Temple Sarnath )

यह तिब्बती मंदिर सारनाथ में लोकप्रिय बौद्ध मंदिरों में से एक है। जो भारत में बौद्ध तीर्थयात्रिओ के घूमने के लिए एक प्रमुख स्थानों में से एक है। इस मंदिर का निर्माण 1955 में में हुआ था । मंदिर के प्रवेश द्वार को दो शेरों से खूबसूरती से सजाया गया है।

~ प्रवेश शुल्क :- कोई प्रवेश शुल्क नहीं (Free)   ~ समय :- 8AM to 6PM  ~ यात्रा अवधि :- 15 मिनट

12. Sarnath Me Ghumne Ki Jagah ( सारनाथ में घूमने की जगह )

इन सभी जगहों के आलावा भी  Sarnath Me Ghumne ki jagah बहुत सारी  है , जैसे :-

* गोल्डन मंदिर सारनाथ ( Golden Temple Sarnath )

* अशोक स्तंभ (Ashoka Pillar Sarnath)

* सारंगनाथ महादेव जी का मंदिर (Lord Shiva Temple Sarnath)

* चाईनीज़ बुद्ध मंदिर (Chinese Buddhist Temple Sarnath)

* कोरियाई टेम्पल (नोक्यवों) (Korean Temple (Nokyawon) Sarnath)

* स्तूप ऑफ़ खींचें पालदेन शेरब रिन्पोछे (Stupa of Khenchen Palden Sherab Rinpoche)

सारनाथ कैसे पहुंचे? ( How To Reach Sarnath )

सारनाथ, उत्तर प्रदेश के मुख्य शहरों में से एक वाराणसी शहर से 10 किलोमीटर की दुरी पे स्थित है। आप यहा पे भारत के किसी भी कोने से बहुत ही आसानी से पहुंच सकते है । सारनाथ वह स्थान है जहाँ पे आप हवाई , सड़क या रेल मार्ग किसी से भी पहुंच सकते है । सारनाथ पहुंचने के कुछ सर्वोत्तम तरीकों को नीचे बताया गया है ।

1.फ्लाइट से सारनाथ कैसे जाएं ? ( How To Reach Sarnath by Flight )

सारनाथ का नजदीकी हवाई अड्डा “लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा” है। लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा सारनाथ से 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

आप अपने यहां से फ्लाइट के माध्यम से लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा  पर पहुंचने के बाद यहां पर चलने वाले स्थानीय परिवहन जैसे – कैब , ऑटो रिक्शा , टैक्सी या ई- रिक्शा आदि की सहायता से आप सारनाथ बहुत ही आसानी से पहुंच सकते हैं।

2. ट्रेन से सारनाथ कैसे जाएं ? ( How To Reach Sarnath by Train )

आप ट्रेन से काफी आसानी से सारनाथ पहुंच सकते हैं। क्योंकि सारनाथ में भी एक रेलवे स्टेशन लेकिन यहा पे कुछ लिमिटेड शहरों से ही ट्रेनों का आवागमन है। लेकिन अगर हम सारनाथ के नजदीकी रेलवे स्टेशन की बात करें तो वह वाराणसी जंक्शन है ।

आप अपने यहां से आसानी से वाराणसी जंक्शन  आ सकते है । फिर वाराणसी जंक्शन पर पहुंचने के बाद यहां पर चलने वाले स्थानीय परिवहन जैसे – कैब , ऑटो रिक्शा , टैक्सी या ई- रिक्शा आदि की सहायता से आप सारनाथ बहुत ही आसानी से पहुंच सकते हैं।

3. सड़क मार्ग से सारनाथ कैसे जाएं ? ( How To Reach Sarnath by Road )

सड़क मार्ग की सहायता से अगर आप सारनाथ जाने के बारे मे सोच रहे हैं तो भी आप बिलकुल आसानी से सारनाथ सड़क मार्ग से पहुंच सकते हैं। क्योंकि सारनाथ वाराणसी के पास में ही स्थित है, और वाराणसी भारत के तकरीबन सभी क्षेत्रों से सड़क मार्ग से काफी अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है तो आप आसानी से सड़क मार्ग से सारनाथ पहुंच सकते हैं।

सारनाथ में घूमने का खर्चा ( Budget To Visit In Sarnath )

अभी तक तो हम Sarnath Me Ghumne Ki Jagah के बारे में बात किये लेकिन अब हम सारनाथ में घूमने के खर्चे का अनुमान लगाएं तो प्रति व्यक्ति 5000 रुपए से 7000 रुपए का खर्चा 2 दिन के टूर में बहुत ही आराम से आ सकता है और आप इतने बजट में आराम से और अच्छे से घूम सकते हैं।

सारनाथ में घूमने का सबसे अच्छा समय ( Best time to visit in Sarnath )

वैसे तो आप यहां पे किसी भी समय जा सकते हैं लेकिन सारनाथ जाने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च के महीनों के बीच है और यहां पे सबसे ज्यादा भीड़ सावन के महीने में लगता हैं ।

सारनाथ में कैसे घूमे ?

आप को एक बात बता दे की सारनाथ में घूमने की जगह जितने भी है, उनकी एक- दूशरे से दूरी तो बहुत ही कम हैं  अगर आप चाहे तो पैदल भी घूम सकते हैं लेकिन अगर आप बहुत ही आराम से घूमना चाहते हैं तो आप सारनाथ में घूमने के लिए ऑटो रिक्शा या कैब बुक कर सकते हैं और उन के माध्यम से सारनाथ के सभी पर्यटक स्थलों पर आराम से घूम सकते हैं।

सारनाथ में रुकने की जगह ( Place To Stay In Sarnath )

सारनाथ घूमने जाने वाले पर्यटकों के लिए सारनाथ में रुकने की बहुत सारी व्यवस्था है। सारनाथ में जितने भी पर्यटक स्थल है, उनके आस-पास ही बहुत सारे होटल और धर्मशालाएं बनी हुई है, जहां व्यक्ति आराम से रुक सकता है और यहां पे होटल का किराया 800 रुपए से 5000 रुपए तक के है और आप को होटल बहुत ही आराम से मिल जायेंगे ।

सारनाथ वाराणसी का प्रसिद्ध भोजन ( Famous Food Of Sarnath  Varanasi )

आइये आज हम आपको सारनाथ वाराणसी के कुछ प्रषिद्ध भोजनो के बारे में बताते है :-

  • कचौड़ी – सब्जी
  • बनारसी पान
  • रबड़ी – जलेबी
  • बाटी – चोखा
  • गोलगप्पे
  • टमाटर चाट

सारनाथ में क्या प्रसिद्ध है ? ( What is famous in Sarnath )

वैसे तो सारनाथ में बहुत कुछ प्रसिद्ध है और Sarnath Me Ghumne Ki Jagah भी बहुत सारी है लेकिन कुछ ज्यादा ही प्रसिद्ध जगहों के बारे में आप को बताने वाले है जिसके वजह से सारनाथ फेमस हैं :-

  • सारनाथ में हिरण पार्क है जहां गौतम बुद्ध ने पहली बार धम्म को पढ़ाया था।
  • यह बौद्ध धर्म के तीर्थ स्थलों की वजह से काफी प्रसिद्ध है।
  • पुरातत्व संग्रहालय की वजह से भी सारनाथ फेमस हैं ।
  • सारनाथ आपने ऐतिहासिक जगहों के लिए फेमस हैं ।
  • सारनाथ में बौद्ध धर्म के दर्शन और भगवान बुद्ध के जीवन के बारे आपको कई रोचक जानकारी मिल जायेंगीं।

सारनाथ से क्या खरीदें ? ( What is Buy From Sarnath )

सारनाथ में आपको विभिन्न प्रकार की कलाकृतियाँ और बुद्ध की मूर्तियाँ देखने को मिल जायेंगी। आपको गौतम बुद्ध की हर प्रकार की मूर्ति मिल जाएगी जो आप आसानी से खरीद सकते हैं । सारनाथ का बाज़ार केवल बौद्ध और जैन के स्मृति चिन्हों से संबंधित है।

इसे भी पढ़े :- स्वर्वेद महामंदिर धाम वाराणसी Swarved Mahamandir Dham in Hindi : खर्चा और घूमने की सम्पूर्ण जानकारी

FAQ’s ( Sarnath Me Ghumne Ki Jagah )

सारनाथ कितने बजे तक खुला रहता है?

सारनाथ के लगभग सभी पर्यटक स्थल सुबह 9 बजे खुल जाते है और साम के 5 बजे बंद होते हैं और यह के कुछ पर्यटक स्थल शुक्रवार को बंद रहते हैं।

सारनाथ में कौन सा स्तूप है?

सारनाथ में धर्मराजिका स्तूप और धमेख स्तूप दो प्रशिद्ध स्तूप स्थित हैं ।

सारनाथ में घूमने के लिए 2 दिन काफी है?

हां , सारनाथ में घूमने के लिए 2 दिन काफी है

सारनाथ के स्तंभ में कितने शेर हैं?

सारनाथ के स्तंभ में चार शेर हैं जो साहस, शक्ति, आत्मविश्वास और गौरव को प्रदर्शित करते हैं और ये देश का प्रतीक चिह्न भी है।

वाराणसी शहर से सारनाथ की दूरी ?

सारनाथ , वाराणसी शहर से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पे स्थित हैं । वाराणसी सहर से आप आसानी से सड़क मार्ग से सारनाथ पहुंच सकते हैं।

निष्कर्ष :- ( Conclusion )

हमने इस पोस्ट में आपको Sarnath Me Ghumne Ki Jagah ( सारनाथ में घूमने की जगह ) के बारे में बहुत ही विस्तार से बताया है और हमे आशा है की आपको इस पोस्ट को पढ़ने के बाद बहुत सारी जानकारी मिली होगी । अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा होगा तो आप इसे अपने दोस्तों में शेयर भी कर सकते है । धन्यवाद ………….🙏

 

 

Leave a Comment